Breaking News

header ads

Khubsurti Ki Shayari - Khubsurti Ki Tareef Shayari In Hindi

Khubsurti Par Shayari - हेल्लो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी इस khubsurti ki shayari की  पोस्ट में इस पोस्ट में हमने Khubsurti Ki Tareef और Shayari On Khubsurti के स्टेटस लिखे है | इन स्टेटस को आप अपनी गर्लफ्रेंड को पढके सुना या लिख के whatsapp और facebook पे भेज सकते है | इन Khubsurti Shayari In Hindi के स्टेटस को आप अपनी फोटो के साथ facebook पे भी शेयर कर सकते है या अपने whatsapp के स्टेटस पे भी लगा सकते है | अगर आपको हमारी ये Khubsurti Ki Tareef Shayari In Hindi की पोस्ट अच्छी लगे तो अपने दोस्तों या भाइयो के साथ जरुर शेयर करे |


Khubsurti Ki Shayari, Khubsurti Shayari
Khubsurti Ki Shayari



Khubsurti Ki Tareef Shayari





मिल जाएँगे हमारी भी तारीफ़" करने वाले कोई हमारी मौत की "अफ़वाह" तो फैलाओ यारों |


क्या लिखूँ तेरी सूरत - ए - तारीफ मेँ , मेरे हमदम अल्फाज खत्म हो गये हैँ, तेरी अदाएँ देख-देख के |


सभी तारीफ करते हैं, मेरी शायरी की लेकिन कभी कोई सुनता नहीं, मेरे अल्फाज़ो की सिसकियाँ |


लोग भले ही मेरी शायरी की तारीफ न करे खुशी दुगनी होती है जब उसे कॉपी पेस्ट में देखता हूं |


मुझको मालूम नहीं हुस़्न की तारीफ मेरी नज़रों में हसीन ‘वो’ है, जो तुम जैसा हो |


तारीफ़ के मोहताज नही होते हैं सच्चे लोग, ऐ दोस्त असली फूलो पर कभी इत्र छिड़का नहीं जाता  |


सोचता हु हर शायरी पे तेरी तारीफ करु फिर खयाल आया कहीँ पढ़ने वाला भी तेरा दीवाना ना हो जाए।


Kitna haseen chand se chehra hai Uspe shabab ka rang gehra hai Khuda ko yakeen na tha wafa pe Tabhi Chand pe taaro ka pehra hai...!!


Teri julfon ki ghataon ka muntjir hua jata hu Ab yeh aalam hai ki Baarish bhi sukhi si lagti hai..!


Ish darr se kabhi gor se dekha nahi tujhko kehte hai ki lag jati hai apno ki nazar bhi !!


Hum toh fanaa ho gaye unki aankhein dekhkar gaaleeb,
Na jaane woh aayeena kaise dekhte honge..!!!


Chahat Hai Bas Tumhe Paane Ki Koi Aur Tamanna Nahi Iss Deewane Ki Aapse Nahi, Khuda Se Shikva Hai Mujhe Zaroorat Kya Thi Tumhe Itna Khubsurat Banane Ki ?


Har chamakti cheez sona nahi hoti Jara parakh raha hoon ki khara hai ki nahi Agar parakhne ke baad takkdeer mein hogi To woh hume miljayegi agar hogi mere liye sahi.


नज़र इस हुस्न पर ठहरे तो आखिर किस तरह ठहरे कभी जो फूल बन जाये कभी रुखसार हो जाये |

Khubsurti Shayari Hindi


Gussey mein jo nikhraa hai, iss roop ka kya kehnaa,
kuch dair abhi mujh say tum youn hi khaffaa rehnaa.


इस डर से कभी गौर से देखा नहीं तुझको​ कहते हैं कि लग जाती है अपनों की नज़र भी​।


मत पूछना मेरी खुशी की इंतेहा क्या होगी उस वक़्त क्यूंकी उस दिन खत्म मेरे बरसो का इन्तेजार होगा.!!!


उस हसीन चेहरे की क्या बात है हर दिल अज़ीज़ , कुछ ऐसी उसमें बात है है कुछ ऐसी कशिश उस चेहरे में के एक झलक के लिए सारी दुनिया बर्बाद है |


जब चलती है गुलशन में बहार आती है बातों में जादू और मुस्कराहट बेमिसाल है ​उसके अंग अंग की खुश्बू मेरे दिल को लुभाती है यारो यही लड़की मेरे सपनो की रानी है |


नज़र जब तुमसे मिलती है मैं खुद को भूल जाता हूँ बस इक धड़कन धड़कती है मैं खुद को भूल जाता हूँ मगर जब भी मैं तुमसे मिलता हूँ मैं खुद को भूल जाता हूँ |


तेरे हुस्न पर तारीफ भरी किताब लिख देता काश के तेरी वफ़ा तेरे हुस्न के बराबर होती |


तेरे हुस्न का दीवाना तो हर कोई होगा लेकिन मेरे जैसी दीवानगी हर किसी में नहीं होगी।


सोचता हु हर कागज पे तेरी तारीफ करु, फिर खयाल आया कहीँ पढ़ने वाला भी तेरा दीवाना ना हो जाए।


Khubsurti Ki Tareef Shayari, Khubsurti Par Shayari
Khubsurti Ki Tareef Shayari


Hume Khan Maaloom Tha Ki Ishq Hota Hai Kya Bas Ek Tum Mile Aur Zindagi Mohabbat Ban Gae


तेरी खूब सुरती जैसे बारिश के बाद पत्तो पे ठहरा हुआ पानी
Romantic Shayari, Romantic Hindi Shayari, रोमांटिक शायरी


Teri khubsurti ko meray alfaaz chu nahin saktay Hujoom-E-Husn mein tum SHAHZAADI lagti ho..!!!


सादगी तो देखो उन नज़रों की हमसे बचने की कोशिश में बार बार हमें ही देखती है |



मुहब्बत में सर झुका देना कोई बङी बात नहीं जनाब चमकता सूरज भी ङूबा देता है खुद को चाँद की खातिर |


तू ज़रा सी कम खूबसूरत होती तो भी बहुत खूबसूरत होती.. |


जिस दिन सादगी श्रंगार हो जाएगी उस दिन अाईनों की हार हो जाएगी |


Din ki ye tapti dhoop Us par ye aapki baatein khoob Dil se muskurate mere mehboob Dekha nahi pehle aapka ye sunehra roop…!

Khubsurti Ki Shayari


Dil ki nahi jaan ki jarurat ho tum Zami ki nahi aasmaan ki inayat ho tum aur ab hum kya aapki tareef kare Husn ki nahi kayamat ki murat ho tum…!


Unki ankho se kash koi ishara to hota kuch mere jeene ka sahara to hota tod dete hum har rasm zamane ki ek baar hi sahi usne pukara to hota…!


Hasi foolo ko aati hai jab aap muskurate ho Hamari duniya badal jati hai jab aap muskurate ho Aap ke muskurahat ke aaj bhala kya chand ki raunak Kyuki Huzur chand khud sharmata hai !!


Tum har taraf pyar se dekha na karo Har taraf pyaar ki ek kahani banegi Najar jo jhuki to nayi shayri banegi Najar jo uthi to ghazal ki jubaan banegi.


Tere husn ke parde ki jaroorat nhi gaalib Kon rahta hai hosh me tujhe dekhne ke baad.


Mil jayenge hamari bhi tareef karne wale Mere maut ki jhuthi khabar faila kar to dekho.


Dekh pate hai kaha ham tumko Dil kahi hosh kahi hota hai.


तेरे हुस्न को देख कर मुर्दे में भी जान आ गयी और जो ज़िंदा थे, तुझे देख कर उन्हें जन्नत मिल गयी |

Khubsurti Ki Tareef Shayari

न जाने कितनो को तू ने अपने नज़रो से घायल किया होगा लेकिन हम जैसो को जीने का मक़सद भी दिया होगा |


गलती हम से हो सकती हैं मेरे दिल से नहीं हम तुझे चाहे हर पल तेरे खूबसूरती को नहीं |


आईना ले के देख ज़रा अपने हुस्न को आएगी ये बहार-ए-गुलिस्ताँ ख़िज़ाँ में याद |


आप क्या आए कि रुख़्सत सब अंधेरे हो गए इस क़दर घर में कभी भी रौशनी देखी न थी  |


अच्छी सूरत नज़र आते ही मचल जाता है किसी आफ़त में न डाले दिल-ए-नाशाद मुझे  |

Khubsurti Par Shayari In Hindi


अल्लाह अल्लाह हुस्न की ये पर्दा-दारी देखिए भेद जिस ने खोलना चाहा वो दीवाना हुआ  |


बहुत दिनों से मिरे साथ थी मगर कल शाम मुझे पता चला वो कितनी ख़ूबसूरत है |


Khubsurti Par Shayari, Khubsurti Shayari
Khubsurti Par Shayari


दिल के दो हिस्से जो कर डाले थे हुस्न-ओ-इश्क़ ने एक सहरा बन गया और एक गुलशन हो गया |


हम इतनी रौशनी में देख भी सकते नहीं उस को सो अपने आप ही इस चाँद को गहनाए रखते हैं  |


हुस्न और इश्क़ का मज़कूर न होवे जब तक मुझ को भाता नहीं सुनना किसी अफ़्साने का  |


न देखना कभी आईना भूल कर देखो तुम्हारे हुस्न का पैदा जवाब कर देगा |

Khubsurti Shayari


रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम दहका हुआ है आतिश-ए-गुल से चमन तमाम |


शोरिश-ए-इश्क़ में है हुस्न बराबर का शरीक सोच कर जुर्म-ए-तमन्ना की सज़ा दो हम को |


क़ैद ख़ानें हैं, बिन सलाख़ों के कुछ यूँ चर्चें हैं , तुम्हारी आँखों के |


ये आईने नही दे सकते तुम्हे तुम्हारी खूबसूरती की सच्ची ख़बर, कभी मेरी इन आँखों में झांक कर देखो की कितनी हसीन हो…!

Khubsurti Ki Tareef Shayari In Hindi


नींद को आज भी शिकवा है मेरी आँखों से ,मैंने आने न दिया उसको कभी तेरी याद से पहले..!


तुम्हारी निगाहें बहुत बोलती हैं,जरा अपनी आँखों पे पलके गिरा दो....!


तेरी आँखों की कशिश भी खींचती है इस कदर,ये दिल सिर्फ बहलता नहीं बहक जाने की जिद करता है।


Ye kitni khoobsurat hai tu kyun sirf bayaan karta, dil tera kyun cahata hain sirf dekhta rahen. tu kyu souchta hain kitne fursat se banaya hai rabb ne usko, pasand hai tujko, toh jaldi kar,nahin toh koi aur lejayega usko.

Khubsurti Ki Tareef

मैं इज़्ज़त करता हूँ सिर्फ दिल से चाहने वाले की..!! हुस्न तो आज कल बाज़ार में भी बिकते हैं..!!!


ये आईने ना दे सकेंगे तुझे, तेरे हुस्न की खबर, कभी मेरी आँखों से आकर पूछ, के कितनी हसीन है तू..!


Tujhe palko par bithane ko jee krta hai Teri baaho se lipat jane ko jee karta hai Khoobsurti ki inteha hain tu,Tujhe zindagi banane ko jee karta hain.


तन की खूबसूरती एक भ्रम है, पर सबसे खूबसूरत आपकी वाणी है।
चाहे तो दिल जीत लें, चाहे तो दिल चीर दें !!


तेरा मुस्कुराना देना जैसे पतझड़ में बहार हो जाये जो तुझे देख ले वो तेरे हुस्न में ही खो जाये....! !

Khubsurti Shayari In Hindi


होंथ तेरे गुलाब के फूल से भी कोमल है....चूमते वक्त कहीं खरोच ना लग जाये दिल में बस मेरे ये ही डर रहे...!


मैं अदना सा एक शायर तेरे हुस्न की और क्या तरीफ करूं मैं तेरे लिए ही जीता हूं और रब करे तेरे लिए ही मरूं....!


पनहो मैं उनकी दुआओ सा असर होता हैं, उस एक पल मैं जन्नत पे यकीं होता हैं, आगोश मैं उनके सूरज भी चाँद बन जाये, जहाँ के हर गम का जवाब बस उनकी एक नज़र होती हैं.


आपको देखा तो शर्मा गए ये फूल, चुप गया घटाओं में खिला हुआ वो चाँद, आपके मुखड़े ने जाने कैसा शमा हैं बाँधी, धड़क उठा दिल हमारा जब आपसे नज़र मिलाई.


नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात भर, कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता।


Khubsurti Shayari, Khubsurti Ki Shayari
Khubsurti Shayari


Ab Tak Meri Yaadon Se Mitaaye Nahi Mitata, Bhigi Hui Ik Shaam Ka Manjar Teri Aakhen.


हुस्न की ये इन्तेहाँ नहीं है तो और क्या है चाँद को देखा है हथेली पे आफताब लिए हुए ।

Shayari On Khubsurti


ये दिलबरी, ये नाज़, ये अंदाज़, ये जमाल, इंसान करे अगर न तेरी चाह… क्या करे।


उसने होठों से छू कर दरिया का पानी गुलाबी कर दिया, हमारी तो बात और थी उसने मछलियों को भी शराबी कर दिया।


दफन सिर्फ छ: फीट के गड्ढे में कर दिया उसे ज़मीन जिसके नाम.. कईं करोड़ो में थी…!!

Khubsurti Ki Tareef Shayari 2 Line


मौत पे भी मुझे यकीन है, तुम पैर भी ऐतबार है, देखना है पहले कौन आता है, हमें दोनों का इन्तिज़ार है..!!


हर मुलाकात पे महसूस यही होता है मुझसे कुछ तेरी नजर पूँछ रही हो जैसे…!!




You May Also Like :-

Miya Bhai Shayari In Hindi

Dard Bhari Dosti Ki Shayari

Funny Friendship Shayari

Fb Comments In Hindi 

Shayari Ki Diary 


Post a Comment

0 Comments